मैकेलिक्स भारत राय, कैसे यूज़ करे, प्राइस: अब फंगल इन्फेक्शन भूल जाएँ

By | December 20, 2019

मैकेलिक्स क्या है – कैसे यूज़ करे, के फायदे हिंदी में, रिजल्ट्स, साइड इफ़ेक्ट, टिप्पणियाँ, आदेश, प्राइस

  • फंगस मार देती है और दाह कम करती है
  • उत्तकों को हुए नुक्सान को ठीक करती है
  • बीमारी वापस आने से रोकती है
मैकेलिक्स के फायदे

इस बात की 99.9% संभावना है कि आपके शरीर में फंगस का इन्फेक्शन चल रहा है

  • जीभ की गीली परत में सफेदी रहती है
  • उँगलियों और पैरों के अँगूठों के बीच खुजली होती रहती है
  • आपके नाखूनों का रंग बदल गया है और वे टेढ़े-मेढ़े होकर टूट रहे हैं
  • आपके गुप्तांगों में खुजली होती है

इन वापस कभी ठीक न होने वाले परिणामों की रोकथाम करें:

  • फंगस आपके शरीर के दूसरे हिस्सों में भी फैल सकती है
  • रोग प्रतिरोधी क्षमता कमजोर हो जाती है और शरीर के अंग नष्ट होने लगते हैं
  • आप दूसरों में भी इन्फेक्शन फैलाने लगते हैं और दूसरे भी संक्रमित हो जाते हैं
  • औरतों में बांझपन और पुरुषों में नामर्दी आ सकती है

MYCELIX तुरंत असर ऐसा असर जो स्थायी रहेगा

मैकेलिक्स प्राइस

निम्बा की पत्ती का सत्त

यीस्ट, फंगस आदि की बढ़त रोकता है, खुजली से राहत देता है

नीला थोथा

जम चुके फंगल इन्फेक्शन को नष्ट करता है, नई फंगस कॉलोनी नहीं बनने देता।

तुलसी का तेल

रूखी त्वचा को ठीक करता है, उसे नरम करके उसमें निखार लाता है

सर्जा का सत्त

एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक है जो विषाणुओं को मारता है

मात्र 3 दिन में लक्षणों से राहत पाएं। मैकेलिक्स कैसे यूज़ करे, के फायदे हिंदी में, रिजल्ट्स

  • फंगस के बीजाणु मारकर उन्हें बढ़ने नहीं देती
  • त्वचा का पुनर्निर्माण तेज करता है
  • और उसमें रहने वाले स्वस्थ बैक्टीरिया बढ़ाता है
  • घावों को भरने वाला प्रभाव उत्पन्न करता है
  • बदबू दूर करता है
  • दोबारा इन्फेक्शन नहीं होने देता
  • फंगस के प्रति संवेदनशीलता घटाती है
  • लगभग 32000 प्रकार के फंगल संक्रमण फैलाने वाले कारकों को मारता है
  • आपके आसपास के लोगों में इंफेक्शन फैलने की रोकथाम करता है

मैकेलिक्स राय

फंगस के बीजाणु कई जगहों पर लोगों पर हमला करते हैं। शरीर में घर बनाने के लिए ये अपनी रोगप्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाने की कोशिश करते हैं और जिस शरीर पर उन्होंने हमला किया होता है उसकी रोगप्रतिरोधी क्षमता घटाता है। मैं अपने मरीजों को प्राकृतिक तेलों से बने बैक्टीरिया और फंगस नाशक कॉम्प्लेक्स से इलाज करने की सलाह देता हूं। Mycelix से एंटीबायोटिक दवाओं की तरह प्रतिरोध नहीं बनता और 32,000 से भी ज्यादा प्रकार के फंगस फैलाने वाले कारक बहुत कम समय में मर जाते हैं। इसको केवल ऑर्गेनिक पदार्थों से बनाया जाता है जिससे किसी तरह की एलर्जी नहीं होती और इसे खरीदने के लिए डॉक्टर का पर्चा नहीं चाहिए होता।

खरीदने वालों की प्रतिक्रियाएँ। मैकेलिक्स मंच, टिप्पणियाँ, इन हिंदी

मैकेलिक्स कैसे यूज़ करे

अनीता 30 वर्ष

मैंने अपने नाखूनों पर ना जाने कितनी तरह की चीजें लगाई – लेकिन किसी से कोई फायदा ही नहीं होता था। नाखूनों में पपड़ी बनती रहती थी और वे टूटते रहते थे, साथ ही नाखूनों की नीचे की त्वचा भी झड़ती रहती थी। यह देखने में बड़ा खराब लगता था और मैं हमेशा अपने हाथों को छिपाने की कोशिश करती थी। मेरी बीमारी के कारण मेरे बेटे को भी यह बीमारी लग गई। mycelix की वजह से किसी तरह मैं इस बीमारी को ठीक कर पाई। मैं तो हर किसी को इसकी सलाह देती हूं।

मैकेलिक्स प्राइस इन इंडिया

सुष्मिता 45 वर्ष

मुझे करीब 10 महीनों से कैंडीडायसिस की बीमारी हो गई है। मैं बहुत कोशिश करके इसे ठीक कर लेती थी लेकिन यह बार-बार फिर से वापस आ जाती थी। पहले तो मेरे पति से मेरी बहस होने लगी क्योंकि उसे लगा कि मैंने उसे धोखा दिया है और इसलिए मुझे इंफेक्शन हो गया है। मैं बिल्कुल नहीं जानती थी कि जहां सबसे पावरफुल एंटीबायोटिक भी फेल हो गए वहां एक सामान्य सा तेल असर कर जाएगा। मैं हर उस व्यक्ति को Mycelix तेल की सलाह देती हूं जिसे यह समस्या हो गई है।

मैकेलिक्स के फायदे हिंदी में

भालचंद्र 29 वर्ष

एक नई लड़की के साथ बस एक बार बिना कंडोम के सेक्स करने की मुझे भारी कीमत चुकानी पड़ी। मुझे फंगल इंफेक्शन हो गया और डॉक्टर ने मुझे mycelix लगाने की सलाह दी। बस एक हफ्ते में ही मुझे पूरा आराम लग गया। ये लैब टेस्ट द्वारा प्रमाणित है।

मैकेलिक्स आदेश, प्राइस इन इंडिया

मैकेलिक्स प्राइस इन इंडिया

2200

पुराना रेट 4400 ₹

इससे पहले कि फंगस आपको मार दे आप उसे मार दें। फंगल इन्फेक्शन दूर करने का तेज और किफायती तरीका

चर्म और सेक्स रोगों के विशेषज्ञ

नमन उपाध्याय

मैकेलिक्स क्या है

दुनिया भर के डॉक्टर इन आंकड़ों की चेतावनी देते हैं कि 57% जनसंख्या को खतरनाक फंगल इंफेक्शन हो रखे हैं। दुनिया में हर दूसरा आदमी इसके जोखिम में है! यह बड़ी डरावनी बात है!

अधिकतर लोग मानते हैं की फंगल इन्फेक्शन से बस ऊपर से थोड़ी त्वचा खराब हो जाती है या ये बस या थोड़ी खुजली वगैरह की बीमारी है और इसके बारे में ज्यादा चिंता वाली बात नहीं है। लेकिन यह सच नहीं है!

सच तो यह है कि दुनिया में फंगस के 32000 से भी ज्यादा प्रकार होते हैं। यह मानव जाति के सबसे बड़े दुश्मन हैं और इनके ऐसे गंभीर परिणाम हो सकते हैं जो फिर ठीक नहीं किए जा सकते.

तैयार रहें! अपने शरीर और जिंदगी की सुरक्षा करें! शुरुआती लक्षणों की पहली पहचान!

  • बहुत पसीना आना;
  • मुंह, गले और जननांगों पर चिपचिपी सफेद परत जमना;
  • हाथ और पैरों से बदबू आना;
  • नाखूनों का रंग खराब हो जाना या तेरा मेला हो जाना;
  • त्वचा पर सफेद धब्बे;
  • त्वचा में खुजली;
  • त्वचा लाल हो जाना;
  • जननांगों और जांघ के अंदरूनी हिस्सों में खुजली होना;
  • पेशाब और जननांगों में बदबू आना;
  • पैरों के अंगूठे कत्थई हो जाना।

यदि समय रहते कदम नहीं बढ़ाए गए तो क्या हो सकता है!

फंगस अपने जीवन चक्र के दौरान शरीर में कई तरह के विषैले पदार्थ छोड़ती है जिससे रोग प्रतिरोधी क्षमता कमजोर पड़ जाती है । इसी से बार- बार सर्दी होती है और कई तरह की सेक्स और गुप्तांगों की बीमारियां भी होती हैं।

आपको इसका बिल्कुल अंदाजा नहीं है!

नाखून में इंफेक्शन होने से पूरे शरीर में डर्मेटाइटिस की बीमारी हो सकती है और ब्लड पॉइजनिंग का भी खतरा होता है। कैंडिडा का इन्फेक्शन यदि लंबे समय तक बना रहे तो मर्दों में नामर्दी और औरतों में बांझपन हो सकता है । इसलिए इसके इलाज में कतई देरी नहीं करनी चाहिए। यदि बीमारी सीरियस हो जाए तो इसके जानलेवा परिणाम हो सकते हैं

यदि इन्फेक्शन के पहले चरणों में आवश्यक उपचार नहीं किया जाए तो फंगस खून के जरिए अंदरूनी अंगों में पहुंच जाती है। रोग प्रतिरोधी क्षमता पहले ही कमजोर हो जाने से शरीर में कई तरह की इन्फेक्शन-जनित गड़बड़ियां होने लगती हैं, जैसे: हार्ट,लीवर,पेट,किडनी और जननांगों को टॉक्सिक-एलर्जिक नुकसान पहुंचना। समय रहते इलाज न किया जाए तो 95% मामलों में मृत्यु हो सकती है।

मेरा मानना है कि फंगस के एक खतरनाक इन्फेक्शन होने के पर्याप्त प्रमाण मौजूद हैं और इसके इलाज में बिल्कुल देरी नहीं करना चाहिए। क्या आप भी ऐसा ही मानते हैं?

इसके बाद भी हमारे क्लीनिक में ऐसे पेशेंट आते रहते हैं जो अभी भी मानते हैं कि फंगस बस एक ऊपरी समस्या है और इसका इलाज करने की कोई जरूरत नहीं होती। हमारे कई पेशेंट सिरका, हाइड्रोजन पराक्साइड वगैरह पर आधारित नुस्खों को आजमाने लगते हैं। ये सब बेकार होते हैं और इनसे समस्या और गंभीर हो जाती है और ऐसा क्षारीय पर्यावरण बनता है जो फंगस को बढ़ाने में और मदद देता है। ऐसा कभी ना करें!

दवाई की दुकानों में आपको ऐसे कोई भी ब्रांड नहीं मिलेंगे जो वाकई में फंगस को मारते हैं!

विलक्प 1 – एंटीबायोटिक्स

इनसे मददगार माइक्रोबायोटा भी मर जाते हैं और एंटीबायोटिक से प्रतिरोधी बन चुके फंगल बैक्टीरिया भी नहीं मरते। इसलिए एंटीबायोटिक केवल लक्षणों को थोड़े समय के लिए दबा सकती हैं और कुछ दिनों बाद बीमारी वापस बढ़ने लगती है।

विलक्प 2 – ड्रॉप और वार्निश

यह बहुत एलर्जिक होते हैं। देखिए यह बड़ी सीधी सी बात है क्योंकि इनके फार्मूला में मिले विषैले पदार्थ त्वचा पर एंटीफंगल एजेंट लगाते ही शरीर में जहर फैलाना शुरू कर देते हैं। इससे समस्या दूर तो नहीं होती बल्कि साइड इफेक्ट भी बहुत झेलने पड़ते हैं।

फंगल इंफेक्शन ठीक करने का असली असरदार तरीका

फंगस, उपलब्ध इलाज और मेडिसिन मार्केट पर किए गए विस्तृत अध्ययनों की मदद से भारतीय त्वचा शोध अनुसंधान केंद्र के शोधकर्ताओं ने एक ऐसी नई एंटीफंगल दवा बना ली है जिसका नाम है – Mycelix

स्टॉकहोम इंस्टिट्यूट ऑफ पैरासाइटोलॉजी के वैज्ञानिक भी इस प्रोजेक्ट में काम कर रहे थे और उन्होंने भी सन 2018 में यह पुष्टि की कि यह प्रोडक्ट बहुत असरदार है। Mycelix मैं 8 चरणों वाला परीक्षण पास कर लिया, इसे उचित क्वालिटी प्रमाण पत्र मिला और इसे बीमारी पैदा करने वाले विषाणुओं, जैसे यीस्ट इंफेक्शन, से लड़ने के लिए सबसे असरदार नुस्खा माना गया।

वैज्ञानिकों ने Mycelix पर 3 साल तक काम किया और कई अलग-अलग सामग्रियों से परीक्षण करके सबसे असरदार फार्मूला बनाया। इस नुस्खे का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह ऑर्गेनिक और हर्बल है। इसकी फाइनल फार्मूला में केवल नेचुरल सामग्रियाँ ही हैं। नैचुरल एक्सट्रैक्ट। मैं अपने सहयोगियों के काम पर बहुत गर्व करता हूं जिन्होंने इसके हर घटक की नेचुरल प्रवृत्ति को भी बनाए रखा और इसे प्रयोगशाला में रिफाइन भी कर लिया।

Mycelix ने 150 से भी ज्यादा प्रकार के फंगल इन्फेक्शन ठीक करना दर्शाया है जिसमें त्वचा पर होने वाली कैंडीडायसिस और टीनिया वर्सीकलर भी शामिल हैं। दवाई लगाने के बाद तीसरे दिन से ही सकारात्मक असर दिखना शुरू हो गया था और 98% मरीजों का इन्फेक्शन पूरी तरह से ठीक हो गया। इन नतीजों को पैथोलॉजी लैब में किए गए टेस्ट में भी कंफर्म किया गया था।

लंबी बात-चीत के बाद ब्रांड को दवाइयों की राष्ट्रीय सूची में शामिल कर लिया गया लेकिन Mycelix को दवाई की दुकानों से डिस्ट्रीब्यूट करने की व्यवस्था नहीं हो पाई। इसलिए फिलहाल, हर आदमी इस असरदार एंटीफंगल दवा को केवल बनाने वाली कंपनी की ऑफिशियल वेबसाइट से खास रेट पर खरीद सकता है >>>

अब ठीक हो जाएँ!

मैकेलिक्स रिजल्ट्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + 6 =